10 February, 2013

एक कविता जो

 

एक कविता जो शुरू होने से पहले ही खत्म हो गई ...!


एक कविता जो शुरू होने से पहले
 ही खत्म हो गई !
शाम ढलने से पहले
 ही सुबह हो गई
बैठा था किसी के आदेश के इंतजार में
और बैठा ही रह गया
उस आदेश की इंतजार मे जो
 कभी तो मिलेगी ,
 किसी काम को पूरा करने के लिए
लेकिन आदेश से पहले
ही वह पूरी हो गई ।
कभी - कभी तो लोग
 कुछ कहते है निल्को ,
और आप करते हुये भी
 न करते है उसको ॥
इन सब बातों से लगा की
एक बार फिर ज़िंदगी
 नई से पुरानी हो गई ।
लेकिन ये
एक बुरे सपने जैसा था
और मैं समझा की यही
अपनी कहानी हो गई ।
रात के बाद एक
 नई सुबह फिर आई
और
मुझे इन बेकार की बातों से
 अलग कर गई ।
इन सब बातों को
 कविता के माध्यम से लिखने की
कोशिश की तो
कविता शुरू हो ने से पहले ही
 खत्म हो गई ।

 मधुलेश कुमार पाण्डेय “निल्को”



आप मेरे ब्लाग पर पधारें व अपने अमूल्य सुझावों से मेरा मार्गदर्शऩ व उत्साहवर्द्धऩ करें, 
 और ब्लॉग पसंद आवे तो कृपया उसे अपना समर्थन भी अवश्य प्रदान करें! 
धन्यवाद .........!
 आपकी प्रतीक्षा में ....
 VMW Team 
The Team With Valuable Multipurpose Work 
vmwteam@live.com 
+91-9044412246;+91-9044412223
 +91-9024589902;+91-9261545777