25 March, 2016

खुले मंच पर देता हूँ चुनौती

हमारे मेसेज को पढ़कर के
ग्रुप में आया एक तूफान
कुछ लोगो के दिल में
उठ गई एक उफान
पलटकर दिया उन्होंने जवाब
जैसे हड्डी बीच कवाब
खुले मंच पर देता हूँ चुनौती
क्यू की वो भी है लाज़वाब
स्वर एक साथ हुए खड़े
प्रयोग हुए शब्द कड़े
बीचबचाव में आये एडमिन
नहीं तो अपनी बात पर हम भी अड़े
मन में रह गई है कसक
हो गया था भेजा सरक
पर शुक्रिया उस शख्स की
जिसने बना आँखो का पलक
पर अब खींच गई है तलवारे
अब इनको कौन सुधारे
जब मिलगे फिर सभी
तो ही दूर होगी तकरारे

सादर वंदे
एम के पाण्डेय निल्को