Blockquote

Followers

19 November, 2017

VMW Team - झांसी की रानी लक्ष्मीबाई

रानी लक्ष्मीबाई ने अपने अद्भुत शौर्य और पराक्रम से न सिर्फ अंग्रेजों को नतमस्तक किया बल्कि पूरे विश्व मे भारतीय वसुंधरा को गौरवान्वित किया। रानी लक्ष्मीबाई ने भारतीय इतिहास में वीरता और स्वाभिमान का ऐसा अध्याय जोड़ा है जो सदियों तक देशवासियों को प्रेरित करता रहेगा। 'मैं अपनी झांसी नहीं दूंगी' अदम्य साहस के साथ बोला गया यह वाक्य बचपन से लेकर अब तक हमारे साथ है . रानी लक्ष्मीबाई का जन्म 19 नवंबर, 1828 को बनारस के एक मराठी ब्राह्मण परिवार में हुआ. उन्हें मणिकर्णिका नाम दिया गया और घर में मनु कहकर बुलाया गया. 4 बरस की थीं, जब मां गुजर गईं. पिता मोरोपंत तांबे बिठूर जिले के पेशवा के यहां काम करते थे और पेशवा ने उन्हें अपनी बेटी की तरह पाला. प्यार से नाम दिया छबीली . मणिकर्णिका का ब्याह झांसी के महाराजा राजा गंगाधर राव नेवलकर से हुआ और देवी लक्ष्मी पर उनका नाम लक्ष्मीबाई पड़ा. बेटे को जन्म दिया, लेकिन 4 माह का होते ही उसका निधन हो गया. राजा गंगाधर ने अपने चचेरे भाई का बच्चा गोद लिया और उसे दामोदार राव नाम दिया गया. ग्वालियर के फूल बाग इलाके में मौजूद उनकी समाधि आज भी मर्दानी की कहानी बयां कर रही है. हम सभी ने लक्ष्मीबाई की कहानी सुनी है, लेकिन सुभद्राकुमारी चौहान ने अपनी कलम के जरिए उनकी जो बहादुरी हमारे सामने रखी, उसकी मिसाल दूसरी कोई नहीं.

सिंहासन हिल उठे राजवंशों ने भृकुटी तानी थी,
बूढ़े भारत में भी आई फिर से नयी जवानी थी, 
गुमी हुई आज़ादी की कीमत सबने पहचानी थी, 
दूर फिरंगी को करने की सबने मन में ठानी थी। 

चमक उठी सन सत्तावन में, वह तलवार पुरानी थी, 
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी, 
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी॥ 

कानपूर के नाना की, मुँहबोली बहन छबीली थी, 
लक्ष्मीबाई नाम, पिता की वह संतान अकेली थी, 
नाना के सँग पढ़ती थी वह, नाना के सँग खेली थी, 
बरछी, ढाल, कृपाण, कटारी उसकी यही सहेली थी।

वीर शिवाजी की गाथायें उसको याद ज़बानी थी, 
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी, 
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी॥

लक्ष्मी थी या दुर्गा थी वह स्वयं वीरता की अवतार, 
देख मराठे पुलकित होते उसकी तलवारों के वार, 
नकली युद्ध-व्यूह की रचना और खेलना खूब शिकार, 
सैन्य घेरना, दुर्ग तोड़ना ये थे उसके प्रिय खिलवाड़। 

महाराष्ट्र-कुल-देवी उसकी भी आराध्य भवानी थी, 
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी, 
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी॥ 

हुई वीरता की वैभव के साथ सगाई झाँसी में, 
ब्याह हुआ रानी बन आई लक्ष्मीबाई झाँसी में, 
राजमहल में बजी बधाई खुशियाँ छाई झाँसी में, 
सुघट बुंदेलों की विरुदावलि-सी वह आयी थी झांसी में।

चित्रा ने अर्जुन को पाया, शिव को मिली भवानी थी, 
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी, 
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी॥

उदित हुआ सौभाग्य, मुदित महलों में उजियाली छाई, 
किंतु कालगति चुपके-चुपके काली घटा घेर लाई, 
तीर चलाने वाले कर में उसे चूड़ियाँ कब भाई, 
रानी विधवा हुई, हाय! विधि को भी नहीं दया आई।

निसंतान मरे राजाजी रानी शोक-समानी थी, 
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी, 
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी॥

बुझा दीप झाँसी का तब डलहौज़ी मन में हरषाया, 
राज्य हड़प करने का उसने यह अच्छा अवसर पाया, 
फ़ौरन फौजें भेज दुर्ग पर अपना झंडा फहराया, 
लावारिस का वारिस बनकर ब्रिटिश राज्य झाँसी आया। 

अश्रुपूर्ण रानी ने देखा झाँसी हुई बिरानी थी, 
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी, 
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी॥ 

अनुनय विनय नहीं सुनती है, विकट शासकों की माया, 
व्यापारी बन दया चाहता था जब यह भारत आया, 
डलहौज़ी ने पैर पसारे, अब तो पलट गई काया, 
राजाओं नव्वाबों को भी उसने पैरों ठुकराया। 

रानी दासी बनी, बनी यह दासी अब महरानी थी, 
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी, 
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी॥ 

छिनी राजधानी दिल्ली की, लखनऊ छीना बातों-बात, 
कैद पेशवा था बिठूर में, हुआ नागपुर का भी घात, 
उदैपुर, तंजौर, सतारा,कर्नाटक की कौन बिसात? 
जब कि सिंध, पंजाब ब्रह्म पर अभी हुआ था वज्र-निपात। 

बंगाले, मद्रास आदि की भी तो वही कहानी थी, 
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी, 
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी॥

रानी रोयीं रनिवासों में, बेगम ग़म से थीं बेज़ार, 
उनके गहने कपड़े बिकते थे कलकत्ते के बाज़ार, 
सरे आम नीलाम छापते थे अंग्रेज़ों के अखबार, 
'नागपुर के ज़ेवर ले लो लखनऊ के लो नौलख हार'। 

यों परदे की इज़्ज़त परदेशी के हाथ बिकानी थी, 
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी, 
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी॥

कुटियों में भी विषम वेदना, महलों में आहत अपमान, 
वीर सैनिकों के मन में था अपने पुरखों का अभिमान, 
नाना धुंधूपंत पेशवा जुटा रहा था सब सामान, 
बहिन छबीली ने रण-चण्डी का कर दिया प्रकट आहवान। 

हुआ यज्ञ प्रारम्भ उन्हें तो सोई ज्योति जगानी थी, 
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी, 
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी॥

महलों ने दी आग, झोंपड़ी ने ज्वाला सुलगाई थी, 
यह स्वतंत्रता की चिनगारी अंतरतम से आई थी, 
झाँसी चेती, दिल्ली चेती, लखनऊ लपटें छाई थी, 
मेरठ, कानपुर,पटना ने भारी धूम मचाई थी, 

जबलपुर, कोल्हापुर में भी कुछ हलचल उकसानी थी, 
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी, 
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी॥

इस स्वतंत्रता महायज्ञ में कई वीरवर आए काम, 
नाना धुंधूपंत, ताँतिया, चतुर अज़ीमुल्ला सरनाम, 
अहमदशाह मौलवी, ठाकुर कुँवरसिंह सैनिक अभिराम, 
भारत के इतिहास गगन में अमर रहेंगे जिनके नाम। 

लेकिन आज जुर्म कहलाती उनकी जो कुरबानी थी, 
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी, 
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी॥

इनकी गाथा छोड़, चले हम झाँसी के मैदानों में, 
जहाँ खड़ी है लक्ष्मीबाई मर्द बनी मर्दानों में, 
लेफ्टिनेंट वाकर आ पहुँचा, आगे बढ़ा जवानों में, 
रानी ने तलवार खींच ली, हुया द्वंद असमानों में। 

ज़ख्मी होकर वाकर भागा, उसे अजब हैरानी थी, 
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी, 
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी॥

रानी बढ़ी कालपी आई, कर सौ मील निरंतर पार, 
घोड़ा थक कर गिरा भूमि पर गया स्वर्ग तत्काल सिधार, 
यमुना तट पर अंग्रेज़ों ने फिर खाई रानी से हार, 
विजयी रानी आगे चल दी, किया ग्वालियर पर अधिकार। 

अंग्रेज़ों के मित्र सिंधिया ने छोड़ी राजधानी थी, 
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी, 
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी॥

विजय मिली, पर अंग्रेज़ों की फिर सेना घिर आई थी, 
अबके जनरल स्मिथ सम्मुख था, उसने मुहँ की खाई थी, 
काना और मंदरा सखियाँ रानी के संग आई थी, 
युद्ध श्रेत्र में उन दोनों ने भारी मार मचाई थी। 

पर पीछे ह्यूरोज़ आ गया, हाय! घिरी अब रानी थी, 
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी, 
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी॥

तो भी रानी मार काट कर चलती बनी सैन्य के पार, 
किन्तु सामने नाला आया, था वह संकट विषम अपार, 
घोड़ा अड़ा, नया घोड़ा था, इतने में आ गये सवार, 
रानी एक, शत्रु बहुतेरे, होने लगे वार-पर-वार। 

घायल होकर गिरी सिंहनी उसे वीर गति पानी थी, 
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी, 
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी॥

रानी गई सिधार चिता अब उसकी दिव्य सवारी थी, 
मिला तेज से तेज, तेज की वह सच्ची अधिकारी थी, 
अभी उम्र कुल तेइस की थी, मनुज नहीं अवतारी थी, 
हमको जीवित करने आयी बन स्वतंत्रता-नारी थी, 

दिखा गई पथ, सिखा गई हमको जो सीख सिखानी थी, 
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी, 
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी॥

जाओ रानी याद रखेंगे ये कृतज्ञ भारतवासी, 
यह तेरा बलिदान जगावेगा स्वतंत्रता अविनासी, 
होवे चुप इतिहास, लगे सच्चाई को चाहे फाँसी, 
हो मदमाती विजय, मिटा दे गोलों से चाहे झाँसी। 

तेरा स्मारक तू ही होगी, तू खुद अमिट निशानी थी, 
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी, 
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी॥

18 November, 2017

पद्मिनी ..और बॉलीवुड -By TRIPURENDRA OJHA

सभी पाठकों को नमस्कार !
मै त्रिपुरेन्द्र ओझा आपके लिए एक ब्लॉग लेकर आया हूँ , वैसे तो इसे आप इसे ब्लॉग न मान कर एक आवाज, एक चीख मानिये जो शब्दों के माध्यम से आप सब तक पहुँचाना चाहता हूँ |
वैसे भी जब कई मुद्दे बहुत ही परेशान कर देते हैं तो मैं बैठ जाता हूँ लिखने जो आज कल दौडभाग भरी जिन्दगी में दिन ब दिन मुश्किल होता जा रहा है |
आइये मुद्दे पर आते है ,आज कल पद्मिनी पर बहुत शोर मचा हुआ है , पूरे देश भर में तमाम हिन्दू संगठन इस मुद्दे पर बवाल काट रहे हैं और तो और करनी सेना नाम के संगठन ने तो दीपिका पादुकोण कि नाक तक काटने कि धमकी दे डाली है |
वैसे भी ये पहला मामला नही है जब हिन्दू भावनाएं आहत करने का आरोप फिल्म उद्योग पर लग रहा है , इसके पहले भी कई बार बवाल कट चुकें है चाहे वो pk हो, जोधा अकबर, सेक्सी राधा, या फिर गोलियों कि रासलीला राम लीला ! बात ये है कि क्यों  आखिर ऐसा हो क्यों रहा ? उत्तर बड़ा ही कड़वा है और आसान है | इसका जिम्मेदार हिन्दू समाज खुद है जो अपने धर्म का खुद सम्मान नही करता | धर्म संस्कार और संस्कृति आज कल के पढ़े लिखे लोगों के लिए आडम्बर मात्र बन कर रह गया है , लोग खुद कृष्ण , हनुमान, द्रौपदी पर दूसरे समुदाय द्वारा बनाये गये जोक्स को पढ़कर हँसतें है और एक दूसरे को भेजतें हैं | ये जानने के बाद भी कि इस फिल्म में देवी देवताओं का मजाक बनाया जा रहा है लोग जम कर देखते हैं और फिल्म को ब्लॉकबस्टर करवा देते है जिससे फिल्म निर्माताओं का हौसला और बढ़ता है, उन्हें धर्म , संस्कृति और संस्कारों से कोई सरोकार नही होता उन्हें केवल अपनी दुकान चलानी होती है | ये हाई सोसाइटी के बेवकूफ,ड्रग्स और शराब सिगरेट के नशे में उल्टियाँ करने वाले हॉलीवुड की  नग्नता , मारपीट , एक्शन और गाली गलौच को चुरा कर हमारे युवा पीढ़ी को बर्बाद तो कर सकते हैं मगर इनकी इतनी औकात नही कि ये intersteller, lucy, gravity, shutter आइलैंड जैसी साइंस फिक्शन फ़िल्में बना कर युवाओ को विज्ञान जानने पर मजबूर करें अपितु ये केवल आइटम songs , सनी लीओन को ही बेच कर अपनी जेब भर सकते हैं |

कहते हैं कि अगर कोई बड़ा वृक्ष को सुखाना हो तो उसके जड़ में रोज विषैली चीजे डालते जाओ वो एक न एक दिन पूरी तरह से मर जायेगा ठीक वैसे ही हिन्दू संस्कृति को मारने के लिए षड़यंत्र किस कदर किये जा रहे हैं कि उसके पाठ्यक्रमों में उलटी सीधी चीजें वामपंथी प्रोफेसरों द्वारा डाल दी जातीं हैं जैसे BA पास  कोर्स में दिल्ली यूनिवर्सिटी में  AK रामानुजन का आर्टिकल 300 RAMAYANAS पढाया जा रहा था, जिसमें फ्रीडम of स्पीच के नाम पर उलटी सीधी चीजें, जैसे 300 प्रकार के रामायण हैं , सीता रावन के छींक से पैदा हुईं और लक्षमण और सीता में अनैतिक सम्बन्ध थे और भी उलटी सीधी चीजें आदि गलत और शर्मनाक तथ्यों को घुसेड कर हिन्दू धर्म को गलत दिशा में ले जाने और संस्कृति को जड़ से मिटाने के कुत्सित प्रयास हुए थे   जिसे काफी लड़ाइयाँ लड़ कर ३ साल बाद इस कोर्स को हटवाया गया | बॉलीवुड में pk जैसीं फ़िल्में बना कर ब्रेनवाश किया जाता है बच्चों का ताकि वो अपने धर्म से विमुख होकर अपनी संस्कृति कि धज्जियाँ उड़ा सकें और वर्षों पुरानी हमारी सभ्यता और संस्कृति का सफाया हो सके |

ये बात हिन्दू समाज के लोगों को खुद समझना होगा कि बॉलीवुड में गुलशन कुमार जैसे लोगों कि हत्या क्यों हो जाती है जिसके आरती के अल्बम आज भी सुबह सुबह हमारे घरों में बजते हैं , कुमार शानू , सोनू निगम , उदित नारायण, शान , सुखविन्दर जैसे लोगों को अचानक काम मिलना बंद क्यों हो जाता है , अरिजीत सिंह जैसे शानदार नव गायकों का मनोबल तोड़ने की कोशिश की जाती है और चीख चीख कर गाने वालों को पकिस्तान से बुला कर सर आँखों पर बिठाया जाता है ,
जय माँ वैष्णो देवी , माँ संतोषी जैसी और तमाम धार्मिक फिल्मों कि लगातार सफलताओं के बाद क्यों गुलशन कुमार को मारकर नदीम जैसे लोग अरब भाग जाते हैं , उसके बाद खानों का दबदबा कैसे बढ़ जाता है कैसे पाकिस्तान से एक्टर और एक्ट्रेस और सिंगर्स को बुलाया जाता है, एक के बाद एक हिन्दू आपत्तिजनक फिल्मों और शब्दों  का प्रचलन बढ़ जाता है , सेक्सी राधा और सेक्सी दुर्गा, रासलीला जैसे शब्दों से हिन्दू भावनाओं पर कुठाराघात होता है  , अगर आप अब भी ये न समझे कि बॉलीवुड अंडरवर्ल्ड ,आतंकियों, और विदेशी ताकतों के इशारों पर चल रहा है तो आप बेवकूफ हैं  |

बात केवल पद्मिनी फिल्म की नही है बल्कि बात हिन्दू धर्म के ऊपर उठ रही उन षड्यंत्री कुठारों की है जिन्हें अगर हमने आज छद्म धर्मनिरपेक्षतावाद का चोला ओढ़ कर नजरंदाज किया तो आने वाली पीढ़ी गर्त में डूब जाएगी , करवा चौथ , जलीकट्टू , दही हांड़ी , संक्रांति , होली , दीपावली आदि हर त्यौहारों के आते ही रंडी रोना मच जाता है | मै पूछता हूँ कि एनिमल क्रुएलिटी तुम्हे केवल जल्लीकट्टू पर ही क्यों दिखता है जब विशाल विशाल गाय और ऊँट जैसे जानवरों को धर्म के नाम पर काट देते हो तब क्यों नही दिखता ?     प्रदूषण केवल दीपावली पर ही क्यों दिखता है  २५ दिसम्बर से १ जनवरी तक क्यों नहीं दिखता? ऐसे ही फिल्मे मरियम और मोहम्मद साहब, कर्बला की लड़ाई पर क्यों नही बनती? बननी चाहिए लेकिन तुम्हे पता तुम्हारे फ्रीडम ऑफ़ एक्सप्रेशन का दंश केवल हिन्दू समाज ही बर्दाश्त कर सकता है बाकियों से तुम्हारी फटती है |

सबसे गंभीर बात ये है कि जब बात हिन्दू धर्म और संस्कृति की आती है तो  हमारा दलित समाज हमसे ही प्रश्न पूछने लगता है, हम कहते है उनसे प्रश्न नही पूछते कि क्यों अंबेडकर साहब ने इस्लाम ग्रहण नही किया आखिर क्यों ?
जैसे फूलन देवी पर मजा आया पद्मिनी पर रो क्यों रहे हो ? फूलन देवी पर फिल्म बनी तो खुद फूलन देवी ने बनवाई, उनकी सहमति बल्कि फिल्म की  रॉयल्टी भी उन्होने लिया , फिल्म के दृश्य पर भी न तो उन्होंने, न ही दलित समाज ने कोई आपत्ति की लेकिन तुम फूलन देवी को मोहरा बना कर हिन्दू समाज को मत बांटो, उस आवाज को मत कमजोर करो जो अब बुलंद हो रही है कि ये हिन्दुस्तान इस प्रकार के घटियापन को आपके नौटंकी द्वारा नहीं स्वीकार करेगा | जो अभिनेत्रियाँ नग्न होकर , देह प्रदर्शन करती घूमती है वो इसकी अधिकारी नहीं कि महा सती पद्मिनी का किरदार धारण भी कर सके , सच ही कहा किसी ने जो रोज बदलती शौहर वो जौहर क्या जाने ?याद करो कि राम और सीता किरदार निभाने  की वजह से अरुण गोविल और दीपिका घर घर में पूजे जाने लगे थे , क्योंकि उन्होंने उस किरदार के साथ न्याय किया और लेकिन आज वाली दीपिका और आज का निर्माता भंसाली  कहीं से भी पद्मिनी के किरदार के साथ न्याय नही करते,बल्कि उसे प्रेम प्रसंग और अश्लील मसाले के साथ परोसने का काम कर रहे हैं बिना ये सोचे कि जो चीज हिंदुस्तान का गौरव है , शान है उसको धूमिल करना उचित नहीं |

आखिर कब तक , कब तक सहेगा केवल एक समाज इस प्रकार के भावनाओं के साथ खिलवाड़ , क्या यही मंशा है तुम्हारी कि इतनी अति कर दो कि हिन्दू समाज का युवा भी आजिज होकर भावनाओं के साथ खिलवाड़ करने वालों की गर्दन उड़ा दे , गोली मार दे और तुम ये कह सको कि आतंकवादी हिन्दू भी है , ताकि तोड़ सको ये मिथक कि शांति और अहिंसा का का जिम्मा केवल हिन्दुवों की है , कह सको कि तुम्हारी नीचता में हिन्दुवों ने भी बराबरी कर ली ? यही चाहते हो कि इस प्रकार के तुम्हारे फ्रीडम ऑफ़ स्पीच और फ्रीडम ऑफ़ एक्सप्रेशन के कारण हिन्दू समाज भी आतंक की भाषा बोलने लगे ? क्यों ले रहे धैर्य की परीक्षा ताकि ये तुम मजबूती से कह सको कि आतंक का कोई धर्म नहीं होता ?
मत करो ये सब ! तुम्हारी स्वतंत्रता केवल वहीँ तक है जहाँ तक किसी की नाक नहीं आती ,रहने दो शांति से , मत करो हमारे उन इतिहासों के साथ छेड़छाड़ जिनकी वजह से आज हम खुद को गौरवान्वित महसूस करते हैं , मत करो प्रताड़ित अपने स्वतंत्रता के नाम पर उस समाज को जिसका आधार हिन्दुस्तान है , मत करो षड्यंत्र हमारे बच्चों के साथ जो पद्मावत को इस नाच के रूप में जानें , मत कुरेदो  हमारे जख्म फिर से पूर्वाग्रह से ग्रसित होकर चंद पैसों के लिए, मत भटकाओ हमारी आने वाली पीढ़ी को , मत करो हमें हमारे धर्म के विमुख या फिर मत बनाओ हमें धर्म के प्रति इतना कट्टर  |
मत तैयार करो कोई और गोडसे ..............|



-                                                                                        त्रिपुरेन्द्र कुमार ओझा  ‘निशान’

15 November, 2017

Hardik Patel Leak MMS - Gujrat Election


पाटीदार आरक्षण आंदोलन के नेता हार्दिक पटेल की एक और कथित सीडी सामने आई है। दावा किया जा रहा है कि वीडियो में हार्दिक और उनके दो साथी एक लड़की के साथ आपत्तिजनक स्थिति में हैं। हार्दिक ने ट्वीट में लिखा, बीजेपी ने मेरी निजी जिंदगी पर हमला किया है। बीजेपी में भी कई लोग हैं और मैं उनकी सेक्स सीडी भी लेकर आऊंगा। हार्दिक बड़ा हो गया है। करोड़ों रुपये मेरी छवि खराब करने के लिए खर्च किए जा रहे हैं। गंदी राजनीति शुरू चुकी है। हार्दिक ने लिखा, मुझे इससे फर्क नहीं पड़ता, लेकिन गुजरात की महिलाओं का अपमान किया जा रहा है। हार्दिक ने यह भी कहा कि वीडियो क्लिप्स से पाटीदार आंदोलन पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा।

03 November, 2017

चुंबक की तरह पैसे को खींचता है येे पौधा


वैसे तो पैसा कमाना इतना आसान नहीं है, किन्तु हर किसी की ख्वाहिश होती है कि उसके पास अपार धन-दौलत हो। कमाने के लिए जी तोड़ मेहनत करनी पड़ती है, लेकिन कई बार बहुत मेहनत करने पर भी उम्मीद के अनुसार पैसा नही आता। इसलिए लोग घर में वास्तु और ज्योतिष के उपाय करते हैं।
मनी प्‍लांट काफी प्रचलित है और ज्‍यादातर घरों में आपको मिल भी जाएगा। मगर क्‍या आपने कभी 'क्रासुला' का नाम सुना है? इसे भी मनी ट्री कहा जाता है। 
कहते हैं यह पौधा चुंबक की तरह पैसों को अपनी ओर खींचता है। यह छोटा सा मखमली पौधा गहरे हरे रंग का होता है। इसकी पत्तियां चौड़ी होती हैं और यह फैलावदार होता है, घास की तरह।इसे लगाने में ज्यादा मेहनत नहीं लगती। इसका पौधा खरीद के किसी गमले या जमीन में लगा दें, फिर यह अपने आप फैलता रहेगा। इसे धूप या छांव कहीं भी लगाया जा सकता है। इस पौधे के बारे में मान्यता है कि यह सकारात्मक ऊर्जा और धन को अपनी ओर खींचता है। अब जहां तक देखभाल की बात है तो मनी प्‍लांट की तरह इस पौधे के लिए ज्‍यादा परेशान होने की जरूरत नहीं है। अगर आप दो-तीन दिन बाद भी इसे पानी देंगे तो यह सूखेगा नहीं। क्रासुला घर के भीतर छांव में भी पनप सकता है। यह पौधा अधिक जगह भी नहीं लेता। आप इसे छोटे से गमले में भी लगा सकते हैं। क्रासुला अच्छी-ऊर्जा की तरह धन को भी घर की ओर खींचता है। इस पौधे को घर के प्रवेश द्वार के पास ही लगाएं। जहां से प्रवेश द्वार खुलता है, उसके दाहिनी ओर इसे रखें। कुछ ही दिनों में यह पौधा अपना असर दिखाना शुरू कर देगा। घर में हर तरह की सुख-शांति भी बरकरार रहेगी।
-
एम के पाण्डेय निल्को

12 October, 2017

VMW Team - राजस्थान प्रतिभा सम्मान समारोह 2017

रवीन्द्र कला मंच और वीएमडबल्यू टीम के तत्वावधान में राज्य स्तरीय प्रतिभा सम्मान समारोह आयोजन गुलाबी नगरी में 26 दिसंबर को आयोजित होगा। समिति के संयोजक एम के पाण्डेय निल्को ने बताया कि सम्मान समारोह के लिए 10 अक्टूबर से 15 नवंबर तक आवेदन पत्र भरे जाएगें। प्रतिभा सम्मान हेतु शिक्षा, समाज सेवा, विज्ञान, पत्रकारिता और खेल के क्षेत्र से आवेदन आमंत्रित है । अधिक जानकारी के लिए आप +91-9024589902 पर संपर्क कर सकते है ।

10 October, 2017

ट्रैफिक सिग्नल पर भारत के कर्णधार

एक लावारिश बिना मां-बाप का बच्चा क्या खुद ही भिखारी बनने का फैसला कर लेता है? बिना किसी छत के भूखे पेट खुले आसमान के नीचे गुजारने वालों की तकदीर में जिल्लत और तिरस्कार के सिवा और क्या होता है तिस पर हमारी मरी हुई संवेदनाओं से निकले लफ़्ज जब उन्हें नसीहत देते हैं तो शायद एक बार उन्हें बनाने वाले भगवान भी कह उठते होंगे “वाह रे इंसान” - Tamanna


भिक्षावृत्ति एक अपराध, यह वे पंक्तियां हैं जो कभी पोस्टरों तो कभी विज्ञापनों द्वारा अकसर दिखाई दे जाती हैं, इन पंक्तियों को पढ़कर हम भिखारियों को घृणा की दृष्टि से देखने लगते हैं, लेकिन क्या हमने कभी यह सोचा है कि हमारी घृणा का वास्तविक हकदार आखिर है कौन, वो जो अपनी भूख मिटाने के लिए 1-1 रुपए के लिए लोगों के सामने हाथ फैलाते हैं, धूप, बारिश, तूफान हर मौसम में आसमान को ही अपनी छत समझकर रहते हैं, कूड़े के ढेर से खाने का सामान एकत्रित कर खाते हैं या फिर वो लोग जो इनकी ऐसी हालत के लिए जिम्मेदार हैं? विकसित देशों के साथ कदम से कदम मिलाकर चल रहा भारत देश आज एक अहम समस्या समस्या का शिकार बना हुआ है। हालांकि सांस्कृतिक देश भारत में यह कोई नई बात नहीं है। इतिहास के पन्नों को उलटकर देखें तो पता चलेगा कि पहले भी हमारे देश में 'भिक्षावृत्ति होती थी। सांसारिक मोह-माया त्यागकर ज्ञान प्राप्ति के लिए निकले महापुरुष भिक्षा मांगकर अपना जीवन-यापन करते थे। उनका उद्देश्य सिर्फ और सिर्फ ज्ञान प्राप्ति होता था। तत्कालीन समाज में भिक्षावृत्ति को सामाजिक बुराई नहीं मानी जाती थी। बल्कि भिक्षुओं का आदर-सत्कार किया जाता था।दूसरी ओर समय के साथ-साथ हर ची बदल गई। देश विकास की राह में बढ़ा, इसके साथ ही बाजारवाद को बढ़ावा मिला, लेकिन साथ ही बढ़ी भिखारियों की संख्या। हालांकि इसे रोकने के लिए काफी कोशिशें की गईं लेकिन यह महज जीवन-यापन का जरिया नहीं बल्कि एक नए कारोबार के रूप में समाज के सामने सीना तानकर खड़ा हो गया। 
इस सामाजिक कुरीति के बढऩे का सबसे बड़ा कारण अशिक्षा है। एक तरफ जहां सरकार सर्वशिक्षा अभियान के तहत सभी को शिक्षित करना चाहती है, तों महंगी होती शिक्षा से गरीब तबका कोसों दूर होता जा रहा है। ऐसे में यह तबका मजबूर हो जाता है कि जितना वक्त पढ़ाई में बर्बाद किया जाएगा, उतने वक्त में भविष्य के लिए भीख मांगकर अच्छी खासी रकम इकट्ठा की जा सकती है। भारत जैसे विकासशील देश में रोजगार के पर्याप्त साधन न होने के चलते इस पेशे को बढ़ावा मिलता है। यहां तक कि कभी-कभी ऐसे लोग भी दिख जाते हैं जो शिक्षित तो हैं पर उनके पास रोजगार नहीं है, थक-हार कर वो इस पेशें से जुडऩे में तनिक भी संकोच नहीं करते।
कुछ देर के लिए जिस जगह से गुजरने पर हम अपनी नाक रुमाल से ढक लेते हैं वहां यह लोग अपनी पूरी जिंदगी बिता देते हैं, लेकिन जब किसी को दोषी ठहराने की बात आती है तो हम इन्हें ही साफ-सुधरे शहर की गंदगी समझ लेते हैं. इनके जीवन को सुधारने के स्थान पर हम इनके जीवन को ही कोसते रहते हैं.
सरकार की नजर में भिक्षावृति एक अपराध है और भीख मांगने वाले लोग एक अपराधी, लेकिन हैरत की बात तो यह है कि इन अपराधियों के लिए तो जेलों में भी कोई जगह नहीं है. उन्हें यूं ही सड़कों पर सड-अने के लिए छोड़ दिया जाता है. भिक्षावृत्ति को आपराधिक दर्जा देने के अलावा हमारी सरकार ने कभी उनकी ओर, उनके जीवन में व्याप्त मर्म की ओर ना तो कभी ध्यान दिया और ना ही उनके लिए किसी भी प्रकार की कोई योजना बनाई. सरकार ही क्यों हम अपनी ही बात कर लेते हैं, समाजिक व्यवस्था को ताने देने के अलावा हम करते भी क्या है. सड़क पर कोई भीख मांगता है तो हम उसे लेक्चर सुना देते हैं कि कुछ काम कर लो, लेकिन आप ही बताइए क्या कोई खुशी से अपने आत्म-सम्मान को किनारे रखकर कटोरा हाथ में उठाता है? हम उन्हें यह समझाते हैं कि कुछ काम करो भीख मांगना अच्छी बात नहीं है तो कुछ लोग ऐसे भी हैं जो उन्हें दुत्कार कर अपनी शान बढ़ाते हैं . समाज की गंदगी समझे जाने वाले यह भिखारी सड़क पर ही पैदा होते हैं, वहीं अपने रिश्ते बनाते हैं और कभी बीमारी से तो कभी भूख से वहीं मर जाते हैं. लेकिन इनकी ओर कभी कोई ध्यान नहीं दिया जाता है और भविष्य में भी ऐसी उम्मीद करना आसमान छूने जैसा ही है. बड़ी-बड़ी बातें करने वाले सरकारी नुमाइंदों के साथ-साथ शायद अन्य लोग भी जिन्हें आजकल हम समाज सुधारक कहते नहीं थक रहे उनके सामने भी जब कोई भिखारी भीख मांगने आता है तो वह उसे कभी पैसे देकर तो कभी दुत्कार कर अपनी गाड़ी के शीशे बंद कर लेते हैं. लेकिन शोहरत और संपन्नता से भरे अपने जीवन में वापस लौटने के बाद उन्हें कुछ याद नहीं रहता और बात फिर वहीं की वहीं रह जाती है कि भिक्षावृत्ति अपराध है और भीख मांगने वाले अपराधी . 

03 October, 2017

पथ निशान का - BY त्रिपुरेन्द्र ओझा " निशान"







जुड़ते -टूटते धागों ने ,
जलते बुझते आगों ने ,
बनते बिगड़ते रागों ने ,
समाज के विषधर नागों ने
पद-निशान को किसने मोड़ दिया
पथ " निशान " का किसने मोड़ दिया ||१



पकड़ते छूटते हाथों ने
मिलते बिछड़ते साथों ने
बनती बिगडती बातों ने
मुंह मांगी सौगातों ने
पद-निशान को किसने मोड़ दिया
पथ " निशान " का किसने मोड़ दिया ||२



अकेली तनहा रातों ने
कुछ शेष बचे हुए नातों ने
कुछ अपनों की घातों ने
कुछ गैरों के साथों ने
निज - मान को किसने तोड़ दिया
पथ " निशान " का किसने मोड़ दिया ||३



कुछ टेढ़ी मेढ़ी राहों ने
कुछ बिन मांगी चाहों ने
किये अनगिनत गुनाहों ने
कुछ अपनों की सलाहों ने
पद-निशान को किसने मोड़ दिया
पथ " निशान " का किसने मोड़ दिया ||४



सुर्ख लाल लरजते होठों ने
उल्फत में मिले मुफ्त चोटों ने
दृग नीर बहाते सोतों ने 
निज - मान को किसने तोड़ दिया
पथ " निशान " का किसने मोड़ दिया ||५


नये समाज कि रीतों ने
कृत प्राण विहीन ,प्रण-जीतों ने
कुछ सुदूर देश के मीतों ने
कुछ भूली बिसरी गीतों ने
रुख निशान का किसने मोड़ दिया 
पथ " निशान " का किसने मोड़ दिया ||६



सौन्दर्य विष के प्यालों ने
कम्पित होठों के हालों ने
घनघोर घने लट जालों ने
तरसते गुजरते सालों ने
निज - मान को किसने तोड़ दिया
पथ " निशान " का किसने मोड़ दिया ||७




- त्रिपुरेन्द्र ओझा " निशान "




















आप मेरे ब्लाग पर पधारें व अपने अमूल्य सुझावों से मेरा मार्गदर्शऩ व उत्साहवर्द्धऩ करें, और ब्लॉग पसंद आवे तो कृपया उसे अपना समर्थन भी अवश्य प्रदान करें! धन्यवाद .........!

दशहरा - by TRIPURENDRA OJHA

                
आज दशहरा है , मै अपने घर से हजार किलोमीटर दूर जॉब करता हूँ जिस वजह से हर दशहरा ,दीपावली और अन्य त्यौहार मै अपने घर वालों के साथ बिताऊं ऐसा संभव नही हो पाता लेकिन आने वाला हर त्यौहार अपने परिवार के साथ बताये गये पलों की याद से रंगीन जरूर हो जाता है ! जरा सी स्मृति की भंगिमाएं चेहरे पर हजार भाव एक साथ नृत्य कराने लगतीं हैं ! यकीनन बड़ा ही शानदार अनुभव होता है जब आपको चाहने वाला , आपके साथ खुशियों के पल बाँट रहा होता है और आप का उसके साथ बिताया गया एक एक क्षण अपने आप में बड़ा ही अनमोल और ह्रदय को सुकून देने वाला होता है जो शायद आज जिन्दगी के भागमभाग , और खुशियाँ खरीदने चक्कर में खो सा रहा है !
भला हो तमाम सोशल साइट्स का जिनकी वजह से आज हम एक दुसरे को देख सकते हैं,सुन सकते है, बात कर सकते है एक छद्म मुलाकात कर सकते है सबसे बड़ी बात एक साथ रह सकते हैं ,कितने महान थे वो लोग जो महीनों महीनो चिठ्ठियों का इन्तेजार किया करते थे और और फिर उन चिठ्ठियों का जवाब आने का सालों..इन्तेजार |
वैसे तो हमारा बचपन बहुत नवाबों जैसा नहीं गुजरा लेकिन उस उम्र में भी अपनी अमीरी कुछ कम नहीं थी ,हम मेला जाने के लिए इतने दीवाने हुआ करते थे कि पुराने मंदिर के पास गिनी चुनी लकठा ,गट्टा,बताशा , मूंगफली,बेर जलेबी कि टोकरियों को देखकर वो आनंद आता था जो आज macD,शौपिंग मॉल और पीवीआर में भी नहीं आता ! सामान खरीदने के चक्कर में जलेबियाँ चखना , बेर चखना , मूंगफली ऐसे ही खा लेते थे कि कुछ खरीदने कि जरूरत ही नहीं पड़ती और पेट भर जाता और साथ में ले गये तीनो रुपयों में से डेढ़ रूपये वापस भी ले आते , एक अठन्नी खो जाने का इतना टेंशन होता था कि एक एक घंटे उसको खोजते ही रहते !
उम्र बढ़ने के साथ साथ मेले के प्रति दीवानगी बनी रही, दशहरा में हमारे यहाँ दुर्गा जी कि मूर्तियाँ रखीं जाती है हर गली मुहल्लों नुक्कड़ों कस्बों और शहरों में मूर्तियों के साथ तेज आवाज में बजता लाउडस्पीकर ह्रदय में जो उमंग कि कम्पन पैदा करता था उसकी अनुभूति शब्दों में वर्णित नहीं कि जा सकती , मन अन्दर ही अन्दर हिलकोरें लेने लगता  और अगर कोई मूर्ती विशाल दिख जाती तो बाप रे .... अब तो हम यहाँ से एक घंटा से पहले हटने वाले नहीं ..एकटक बिना पलक झपकाए तब तक माँ दुर्गा को निहारते रहेंगे जब तक कि महिषासुर के एडी को काटने वाले सांप कि जीभ तक न दिख जाए !
वास्तव में बड़ा आनंदित करने वाला होता था मेला , तरह तरह के खिलौने ,तरह तरह के खाने वाले व्यंजन, तरह तरह की  मूर्तियाँ मानो लगता था माँ दुर्गा के साथ साथ पूरा स्वर्ग उतर आया हो !
हजारो ख्वाहिशों और उत्कंठाओं को दबाये हुए जब हम बड़े हुए तो वो हर चीज , हर शौक ,हर मजे करने कि सोची जिसके लिए बचपन में माँ कि अनुमति, मन कि अनुमति या फिर जेब कि अनुमति नही मिलीं थी ! बड़े भाई साहब डिफेन्स ट्रेनिंग कर के ६ महीने बाद घर आये हुए थे जिन्होंने समय से कुछ पहले ही घर कि सारी जिम्मेदारियों का बोझ अपने कन्धों पर उठा लिया था और उम्र से पहले ही बड़े हो गये थे सो कहने का तात्पर्य ये है कि अभी वो उम्र थी जिनमे बचपना और परिपक्वता के मसाले से जिन्दगी कि नींव और वो दीवार खड़ी हो रही होती है जिसपे जिन्दगी तमाम परीक्षाओ कि छत पड़नी होती है !
खैर हमने दशहरा मेला घूमने जाने को सोचा और वो भी यहाँ वहां नहीं , सीधे शहर कि तरफ जो लगभग 100 किलोमीटर पड़ता था जो ट्रेन की सुविधा होने कि वजह से 1.5 घंटे मालूम नही पड़ता था , उमंग में भरे दोनों भाई माता जी की आसान सी स्वीकृति पाकर( जो कि पहले बड़ा ही दुर्लभ हुआ करती थी ) निकल पड़े दशहरा मनाने |
ट्रेन का टाइम हो रहा था दोनों लोग जल्दी जल्दी तैयार हो रहे थे ,मेरा कपडा कहाँ है मेरी चड्डी मेरा तौलिया , अम्मा रूमाल है क्या ..अब बड़े हो गये थे न सो रुमाल रखने कि आदत डालनी अच्छी बात है जो आज तक नही पड़ी अलग बात है , जैसे तैसे तैयार होकर हम लोग बाहर निकले ,भैया ने अपनी पसंदीदा पेंट शर्ट पहना और मैंने अपना , भड़भडा के साइकिल निकाला और सवार होकर भागे | हमारी प्यारी साइकिल जो जिसने हम दोनों भाइयों कि  शिक्षा पूरी करने में खुद को खपा दिया , हमारे संघर्षों की मूक गवाह , रोज लगभग 30 किलोमीटर  बिना कोई तेल,पेट्रोल खाए अनवरत चलने वाली हमारी सदाबहार एटलस साइकिल जिसे बहुत जाम चलने कि वजह से एक बार बेइज्जत भी होना पड़ा था हमारे रिश्तेदार से ,हमें काफी दुःख हुआ था जब भैया हमारे फूफा जी को छोड़ने उसी साइकिल से लेकर स्टेशन छोड़ने गये थे |
साइकिल चलाने का भी अपना एक प्रोटोकाल होता है कोई बहुत बड़ा और वजनी जब अपने छोटी उम्र लड़के के के साइकिल पर बैठता है तो उसकी जगह करियर पर नही बल्कि सीट पर होती है और ऐसा न करने वाले को समाज निर्दयी ,और संस्कार हीन घोषित कर देता है जिससे अगला अपना वो भरोसा खो देता है कि  वो पुनः उस बच्चे के पुष्पक विमान के सवारी का सुख ले पाए तो इसी प्रोटोकाल के तहत फूफा जी साइकिल चला रहे थे और भैया पीछे बैठे थे आगे से मंद मंद बहती पछुवा हवा और जाम साइकिल उनकी नसे ढीली कर रही थी ,फेफड़े अपनी ताकत से ज्यादा काम कर रहे थे और धड़कन बीच बीच में रुक सी जाती थी जैसे तैसे वो चेहरा लाल किये अपने गंतव्य से थोडा पहले उतरे और और कुछ रुपये थमाते हुए बोले थे भाई इसकी सर्विसिंग करा लेना ,भैया ने कहा क्यों कुछ खराबी तो है नहीं इसमें!!! इस पर उन्होंने ऐसी बात कही जो आज भी ज्यों कि त्यों हमारे कानो में गूंजती है , उन्होंने कहा था “ जिस चीज के लिए साइकिल का अविष्कार हुआ वो चीज इसमें कहीं दूर दूर तक दिखाई नहीं देती”| किसी साइकिल के लिए इससे बड़ी बेइज्जती कि बात क्या हो सकती है जब उसने अपनी तमाम उम्र निस्वार्थ हमारी सेवा में लगा दी हो |
खैर जो भी हो हम दोनों भाई उसी साइकिल पर निकल पड़े ट्रेन पकड़ने ,आपको बता दूं कि साइकिल के करियर में एक पतली सी छड ढीली हो गई थी जो सदृश दिशा में क्षैतिज रूप से थोड़ी बाहर सरक जाती थी जो मौके बेमौके दोनों तरफ से पैर करके बैठने वालों के जांघ के पास पैंट फाड़ देती थी और दुर्भाग्यवश भैया पीछे बैठे थे साइकिल का बैलेंस बिगड़ा और रंग में भंग पड गया !!!
सबसे नई , सबसे शानदार , सबसे प्यारी वाली पैंट पहनी थी भैया ने जो उस रोमांचक होने वाली यात्रा के भेंट चढ़ गई और हमारा उत्साह ठंडा पड़ गया,सबसे बड़ी मुसीबत कि अब करें क्या ,फटा पैन्ट पहन कर जा नहीं सकते और इतना टाइम नहीं कि वापस जा कर फिर चेंज करके वो ट्रेन पकड़ लें , अब लगा कि हमारे अरमानों पर पानी फिर जायेगा तब तक एक उपाय आया |
दो ट्रेन आधे घंटे के अंतर पर आती थी शहर जाने को जिसमें एक पैसेंजर होती थी जो हर छोटे बड़े स्टेशन रुकते हुए जाती थी और एक्सप्रेस और टाइम दोनों. का हो चुका था हमारे घर के २० मिनट की दूरी पर एक छोटा सा स्टेशन है जिसपर केवल पैसेंजर ट्रेन्स मिलती है लेकिन हम बड़े वाले स्टेशन पर जाना पसंद करते है क्योंकि पैसेंजर ट्रेन का कोई ठिकाना नही होता और बड़े वाले स्टेशन से एक्सप्रेस भी ट्रेन मिल जाती है सो हमने सोचा कि गाँव के बाहर वाले स्टेशन से वो पैसेंजर पकड़ लें,  सो भाग के आये और चेंज करके स्टेशन कि तरफ पैदल भागे स्टेशन पर पहुँचते तब तक एक और त्रासदी हुई ,आँखों के सामने से वो ट्रेन निकल गई अब मुसीबत और बढ़ गई अब क्या करें घर वापस जाना मंजूर नहीं था और 5 किलोमीटर पैदल बड़े स्टेशन जाना आसान  नहीं था , समय हमें जाने नहीं देना चाहता था और हम ऐसे समय को जाने नहीं देना चाहते थे ,फिर हम लोग पैदल ही रेल कि पटरियों को पकड़ के अगले स्टेशन जाना शुरू कर दिए  ताकि वो एक्सप्रेस पकड़ सकें जो पिछले स्टेशन पर नहीं रूकती थी और जो कभी भी आ सकती थी क्योंकि समय हो चुका था|
जल्दी जल्दी चलते चलते मस्ती भी करते जा रहे थे रेलवे लाइन के किनारे के बेरियों को तोडना , पत्थर उठा के गेंदबाजी करना , डंडे तोड़ कर इधर उधर मारते चलना | अब स्टेशन का आउटर दिखना शुरू हो गया था कि अचानक हमारे कान उस खरगोश के कान की मानिंद खड़े हो गये जो खतरा भांपने का सेंसर होता है , पटरियों में से घिसने कि आवाज आ रही थी कान दिया तो लगा कि कोई ट्रेन आ रही है ,हालाँकि कोई ट्रेन दिखाई नहीं दे रही थी भैया ने तुरंत अपनी पदार्थ भौतिकी विज्ञानं लगा के दौड़ लगानी शुरू कर दी हम पूछे क्या हुआ ? बोले भाग ट्रेन आ रही है जल्दी चल नहीं तो छूट जायेगी ..भैया आगे आगे हम पीछे पीछे रह रह के मैं पीछे घूम के देख लेता था कि ऐसा तो नहीं जो मजे ले रहे हों तब तक हमें इंजन दिखा और हमारी धड़कन बढ़ गई ..मैंने अब अपना शत प्रतिशत लगाना शुरू कर दिया फॉर्मल चमड़े के जूते पत्थरों पर ठोकर खा खा कर बेहाल हो रहे थे भैया स्पोर्ट्स वाले जूते पहने अपने ट्रेनिग के जलवे दिखा रहे थे ..एक लम्बा फासला बढ़ता जा रहा था भैया और हमारे बीच जबकि ट्रेन का फासला नजदीक होता जा रहा था अब स्टेशन दिखने लगा था ट्रेन कि गति धीमी हो रही थी फिर भी हमारी तरफ तेजी से बढ़ रही थी |
हमारा गला सूख रहा था फिर भी जान लगा के दौड़े जा रहे थे कोशिश मेले में जाने कि नहीं बल्कि समय पर विजय पाने की हो रही थी किसी भी कीमत पर असफल होना हम दोनों भाइयों में से किसी को मंजूर नहीं था चाहे वो लक्ष्य गिल्ली डंडा के स्कोर का हो या क्रिकेट मैच का या फिर ट्रेन के साथ दौड़ लगा कर उसी ट्रेन को पकड़ने का , हारना मंजूर नहीं था |
ट्रेन के इंजन ने पहले हमें पीछे किया फिर भैया को, कम से कम एक किलो मीटर की दूरी बची थी और ट्रेन हमें पूरी पार
कर के स्टेशन जाकर खड़ी हो गई , हमने सारी शक्ति लगा के फिर दौड़ना शुरू किया भैया जैसे ही गार्ड के डिब्बे के पास पहुंचे कि सिग्नल ग्रीन हो गया , भैया इस उम्मीद में हाँफते हुए मुझे देख रहे थे कि तुम पहुँचो तो मैं चढ़ूँ वरना मैं भी छोड़ दूंगा |
ट्रेन खुल गई और मैं प्लेटफ़ॉर्म पर चढ़ गया भैया बोगी का हैंडल पकड के चलने लगे मैं भी करीब पहुँच गया ट्रेन ने गति पकडनी शुरू की और हम दोनों भाई चलती ट्रेन में घुस गये |
हमने कर दिखाया, जो चीज हमें चाहिए थी वो मिल गयी हम बेतहाशा हँसे जा रहे थे , वो ख़ुशी थी कोशिश को कामयाबी में बदलने की , वो ख़ुशी थी जीत की, वो ख़ुशी थी साथ मिल कर विजय हासिल करने की ......
हांफते हांफते ही हम 70किमी से ज्यादा दूर निकल आये पता नहीं चला ..हमें सामान्य होते होते शहर आ गया और हम उतर गये मेला करने ..
पहली बार मॉल का मजा ,एस्केलेटर और लिफ्ट में बेवजह ऊपर नीचे...बाहर बड़ी बड़ी मूर्तियाँ , यूनिवर्सिटी के पार्क का झूला , गोलगप्पे , और उस रात खूब घूमे जिंदगी  का उतना मजा शायद ही अब मिले कभी ..
रात में दो बजे वापसी कि ट्रेन थी , स्टेशन पर पहुँचते पहुँचते थकान अपने चरम पर थी ...ट्रेन के इन्तेजार में किसी के भारी भरकम डबल बेड साइज़ के लगेज पर आँख लग गई तब तक भैया ने हडबडा के उठाया ट्रेन आ गई थी ..हम बैठ गये और अब अपने स्टेशन उतरे जिस कसबे में पूरा बचपन बीता था दशहरा का मेला करते करते ...|
सब्जी मंडी पहुंचें तो घुप्प अँधेरा था और दुर्गा जी का पंडाल जगमगा रहा था और वहां लोगों का जनसमूह सुबह के ४ बजे प्रोजेक्टर पर अजय देवगन के मूवी का मजा ले रहा था ...हम भी वो फिल्म देखने बैठ गये और जब हल्का हल्का उजाला होना शुरू हुआ वहां से घर को निकल लिए .... इस घटना को  सात आठ वर्ष बीत चुके हैं पर जब भी दशहरा आता है और भैया से बात होती है तो बरबस ही हंसी छूट जाती है |


- TRIPURENDRA KUMAR OJHA
9044412246



आप मेरे ब्लाग पर पधारें व अपने अमूल्य सुझावों से मेरा मार्गदर्शऩ व उत्साहवर्द्धऩ करें, और ब्लॉग पसंद आवे तो कृपया उसे अपना समर्थन भी अवश्य प्रदान करें! धन्यवाद .........!

18 September, 2017

आख़िर कौन हैं रोहिंग्या मुसलमान

हाल ही में भारत के बोधगया में हुए बम विस्फोटों के बाद रोहिंग्या मुस्लिम सुर्खियों में हैं, लेकिन प्रश्न यह भी है कि आखिर रोहिंग्या हैं कौनम्यांमार को क्या दिक्क़त है? इन्हें अब तक नागरिकता क्यों नहीं मिली? रोहिंग्या मुसलमान विश्‍व का सबसे अल्‍पसंख्‍यक समुदाय है। इनकी आबादी करीब दस लाख के बीच है। बौद्ध बहुल देश म्यांमार के रखाइन प्रांत में रोहिंग्या मुसलमान शताब्दियों से रह रहे हैं। बीते दिनो म्‍यांमार में हुई हिंसा में रोहिंग्‍या मुसलमानों के मारे जाने के बाद पूरे विश्‍व की नजरे इन पर आ गईं हैं। यह सुन्नी इस्लाम को मानते हैं। इन मुसलमानों के बारे में कहा जाता है कि वे मुख्य रूप से अवैध बांग्लादेशी प्रवासी हैं। सरकार ने इन्हें नागरिकता देने से इनकार कर दिया है। ये म्यामांर में पीढ़ियों से रह रहे हैं। रोहिंग्या मुसलमानों को बिना अधिकारियों की अनुमति के अपनी बस्तियों और शहरों से देश के दूसरे भागों में आने जाने की इजाजत नहीं है। यह लोग बहुत ही निर्धनता में झुग्गी झोपड़ियों में रहने के लिए मजबूर हैं। पिछले कई दशकों से इलाके में किसी भी स्कूल या मस्जिद की मरम्मत की अनुमति नहीं दी गई है। नए स्कूल, मकान, दुकानें और मस्जिदों को बनाने की भी रोहिंग्या मुसलमानों को इजाजत नहीं है। म्यांमार में 25 अगस्त को भड़की हिंसा में क़रीब 400 मौतों की ख़बर है म्यांमार में बौद्ध बहुसंख्यक हैं और ये रोहिंग्या को अप्रवासी मानते हैं। साल 2012 में म्यांमार के रखाइन प्रांत में रोहिंग्या-बौद्धों के बीच भारी हिंसा हुई थी साल 2015 में भी रोहिंग्या मुसलमानों का बड़े पैमाने पर पलायन शुरू हुआ, रोहिंग्या समुदाय 12वीं सदी के शुरुआती दशक में म्यांमार के रखाइन इलाके में आकर बस तो गया, लेकिन स्थानीय बौद्ध बहुसंख्यक समुदाय ने उन्हें आज तक नहीं अपनाया है।

अराकान रोहिंग्या नेशनल ऑर्गनाइजेशन के मुताबिक रोहिंग्या रखाइन में प्राचीन काल से रह रहे हैं। 1824 से 1948 तक ब्रिटिश राज के दौरान आज के भारत और बांग्लादेश से एक बड़ी संख्या में मजदूर वर्तमान म्यांमार के इलाके में ले जाए गए। ब्रिटिश राज म्यांमार को भारत का ही एक राज्य समझता था इसलिए इस तरह की आवाजाही को एक देश के भीतर का आवागमन ही समझा गया। ब्रिटेन से आजादी के बाद, इस देश की सरकार ने ब्रिटिश राज में होने वाले इस प्रवास को गैर कानूनी घोषित कर दिया। इसी आधार पर रोहिंग्या मुसलमानों को नागरिकता देने से इनकार कर दिया गया। जिसके चलते अधिकांश बौद्ध रोहिंग्या मुसमानों को बंगाली समझने लगे और उनसे नफरत करने लगे।

भारत में करीब 40 हजार रोहिंग्या मुसलमान हैं, जो जम्मू, हैदराबाद, दिल्ली-एनसीआर, हरियाणा, उत्तर प्रदेश और राजस्थान में मौजूद हैं।  चूंकि भारत ने शरणार्थियों को लेकर हुई संयुक्त राष्ट्र की 1951 शरणार्थी संधि और 1967 में लाए गए प्रोटोकॉल पर हस्ताक्षर नहीं किए हैं इसलिए देश में कोई शरणार्थी कानून नहीं हैं । गौरतलब है कि भारत सरकार रोहिंग्या मुस्लिमों को शरण देने से इनकार कर रही हैसरकार ने सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दायर कर कहा था कि, "रोहिंग्या मुसलमान देश की सुरक्षा के लिए खतरा है और इस समुदाय के लोग आतंकी संगठनों से भी जुड़े हो सकते हैं"हालांकि, कोर्ट से सरकार ने इसे होल्ड करने की अपील की है

एम के पाण्डेय निल्को
रिसर्च स्कॉलर, जयपुर नेशनल यूनिवर्सिटी 

02 September, 2017

....या फिर तुम्हारी यादें



तुम या फिर तुम्हारी यादें

जब जब आती है
एक सुखद एहसास मेरे मन को
छू कर भाग जाती है
भाग जाती है
क्योकि
वो रुक नही सकती
और मैं उसे
रोक नही सकता
उस क्षणिक समय में
खो जाते है
हम दोनों 
जी हाँ , सही सुन रहे है
हम दोनों
मैं और मेरी तन्हाइयां
क्योंकि यही तो साथ देती है
पहले से थी और 
बाद तक साथ रहेगी
यही तो है जो अपना है
जो साथ है
जो साथ रहेगा 
सुनाऊंगा किसी रोज
एक दूसरा किस्सा
जिसका तू ही होगा एक हिस्सा
मेरी खामोशियों को न तोड़ो
भादो का महीना है
वर्षा से कही आफत है तो
कही राहत है
क्या सुनाऊ
क्या लिखूं
सोच रहा हूँ यही छोड़ 
देता हूँ जो है
वो किस्मत के 
भरोसे
या करे संघर्ष 
मिलते है इस आधी अधूरी
बिना सिर पैर की
रचना के बाद
-
एम के पाण्डेय निल्को

30 August, 2017

Junior Dr Kumar Vishwas


18 August, 2017

तुम मुझे खून दो मै तुम्हे आजादी दूंगा

स्वतंत्रता अभियान के एक और महान क्रान्तिकारियो में सुभाष चंद्र बोस  का नाम भी आता है, नेताजी सुभाषचंद्र बोस ने भारतीय राष्ट्रिय सेना का निर्माण किया था. जो विशेषतः “आजाद हिन्द फ़ौज़” के नाम से प्रसिद्ध थी.
“तुम मुझे खून दो मै तुम्हे आजादी दूंगा” सुभाष चंद्र बोस का ये प्रसिद्ध नारा था, उन्होंने अपने स्वतंत्रता अभियान में बहुत से प्रेरणादायक भाषण दिये और भारत के लोगो को आज़ादी के लिये संघर्ष करने की प्रेरणा दी.

11 August, 2017

कौन है यह चोटीकटवा ? जानें पूरा सच...!

बीते कई दिनों से चर्चाओं में आए चोटी कटवा को लेकर हर कोई सच्चाई जानना चाहता है । हर कोई जानना चाहता है कि आखिर क्या है चोटी कटवा?  इसको लेकर बड़े-बड़े टीवी चैनलों से लेकर अखबारों और वेब मीडिया में भी सुर्खियां बनी हुई है । तो वही सरकार से लेकर पुलिस प्रशासन भी चोटी कटवा को लेकर हैरान है, और जानना चाहता है कि आखिर क्या है चोटी कटवा? सर्च करने पर पता चला कि राजस्थान से शुरू हुई चोटी कटवा की कहानी अब दिल्ली, गुडगांव, उत्तर प्रदेश और बिहार सहित अलग-अलग जगहों से भी आ रही हैं, समझ आया कि मसला मास हिस्टीरियाका है ।
राजस्थान के एक छोटे से गांव से शुरू हुई चोटी कटवा की कहानी अब दिल्ली हरियाणा चंडीगढ़ पंजाब होते होते देश के सबसे बड़े सूबे उत्तर प्रदेश जा पहुंची है। यहां के मथुरा, आगरा, लखनऊ, कानपुर, गोरखपुर, देवरिया समेत कई शहर चोटी कटवा से दहशत जदां है । यहां के कई गांवों से चोटी कटवा नाम की अफवाह से सनसनी मची हुई है । इससे सबसे ज्यादा दहशत में महिलाएं हैं, और अपनी चोटी बचाने को लेकर हैरान हैं। क्योंकि उसकी किसी ना किसी पड़ोसी गांव में या पड़ोसी की चोटी कट गई है , और अब वह भी दहशत में है। सच तो यह है कि 2017 में भी हम ऐसे हैं कि हमारे बीच मास हिस्टीरिया फैलाना बहुत आसान है।  आप सोचिए कि कौन सा भूत ऐसे लोगों की चोटी काटते फिरेगा?  कैमरे के सामने आने के लिए क्या लोग ये नहीं कर सकते?  या फिर बस डर के मारे?  मैं नहीं कह रहा कि ऐसा ही है, पर ऐसा भी हो सकता है। यूजीन इनस्को (फ्रेंच लेखक) की किताब राइनोसोर्स  की कहानी याद आ गई, ऐसा होता है कि एक आदमी शहर में राइनोसोर्स बन जाता है, फिर दूसरा, फिर तीसरा, और धीरे-धीरे बाकी सब। ये चोटीकटवा की कहानी कुछ ऐसी ही लगती है. इसके कई तर्क हो सकते हैं,  पब्लिसिटी,  धार्मिक संवेदना फैलाना,  मास हिस्टीरिया फैलाना। कुछ भी हो सकता है, मैं बस इतना कहना चाहता हूं कि हम जरा सोचे कि कहीं हम सब राइनोसोर्स तो नहीं बन रहे?
अपने आसपास के माहौल में अफवाहों की चपेट में आकर लोग एक्यूट साइकोसिस (मेनिया) की जद में आकर मास हिस्टीरिया का शिकार हो रहे हैं। इसमें कोई अंजान डर एक से दूसरे में पहुंचकर अफवाहों को बढ़ावा देता है। मास हिस्टीरिया की उन जगहों पर होने की आशंका ज्यादा रहती है जहां परिवार या समाज में भावनात्मक तौर पर एक दूसरे से जुड़े होते हैं। इसमें पीड़ित को देखकर परिवार या अन्य आसपास के सदस्य खुद को उसी में ढालने की कोशिश करते हैं।  मास हिस्टीरिया एक सामान्य समस्या है। इसमें यदि एक बच्चा शिकायत करता है कि उसे पेट दर्द हो रहा है तो अन्य बच्चों को भी लगता है कि उनके साथ भी वैसा ही हो रहा है। जबकि वास्तविकता में ऐसा कुछ नहीं होता। हिस्टीरिया (Hysteria) की कोई निश्चित परिभाषा नहीं है। बहुधा ऐसा कहा जाता है, हिस्टीरिया अवचेतन अभिप्रेरणा का परिणाम है। अवचेतन अंतर्द्वंद्र से चिंता उत्पन्न होती है और यह चिंता विभिन्न शारीरिक, शरीरक्रिया संबंधी एवं मनोवैज्ञानिक लक्षणों में परिवर्तित हो जाती है। 
-
एम के पाण्डेय निल्को
शोध छात्र 

Loading...