30 जनवरी, 2012

राहुल गांधी को प्रधानममंत्री बनाने की मांग

पार्टी के राजनीति में कब क्या हो जाए, कहना मुश्किल होता है। अब यही देखिए कि मुख्य विपक्षी दल बीजेपी ने राहुल गांधी को प्रधानममंत्री बनाने की मांग कर दी। अब तक यह मांग कांग्रेसी करते थे। हालांकि पार्टी की दलील यह है कि इससे साफ हो जाएगा कि राहुल गांधी में कितना दम है। कांग्रेस ने बिना देर किए इस बात का एलान कर दिया कि यह मांग बीजेपी की मानसिक पराजय का संकेत है। बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता रविशंकर प्रसाद ने रविवार को संवाददाताओं से बातचीत के दौरान एक सवाल के जवाब में कहा, 'यूपीए सरकार के अभी 2 साल बाकी हैं। इसमें राहुल गांधी को प्रधानमंत्री बना देना चाहिए ताकि देश की जनता भी देख ले कि उनमें देश की समस्याओं की कितनी समझ और उनके समाधान की कितनी क्षमता है।' उन्होंने कहा कि राहुल गांधी को प्रधानमंत्री बनने के लिए सिर्फ इतना ही तो कहना है कि 'मनमोहन सिंह जी आप कुर्सी से उतरिए, हम बैठेंगे।' यह सवाल राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के अध्यक्ष और केंद्रीय कृषि मंत्री शरद पवार की इस टिप्पणी के बारे में पूछा गया था, जिसमें पवार ने कहा है कि राहुल गांधी को उत्तर प्रदेश में चुनाव अभियान की कमान सौंपकर कांग्रेस ने एक जुआ खेला है, क्योंकि अगर कांग्रेस अच्छा नहीं कर पाई तो सारी जिम्मेदारी उनके सिर जाएगी। पवार ने यह भी कहा था कि उत्तर प्रदेश में कांग्रेस का चुनाव परिणाम अच्छा भी हो तो भी राहुल गांधी को तुरंत प्रधानमंत्री पद के लिए प्रोजेक्ट नहीं किया जा सकता।

***********
अच्छा लगने पर ब्लॉग समर्थक बनकर मेरा उत्साहवर्द्धन एवं मार्गदर्शन करें | 
vmwteam@live.com 
+91-9024589902:
+91-9044412246,27,12

1 टिप्पणी:

  1. हमारा देश क्या इतना कम नसीब वाला है की हमारे देश को गांधी घराने को छोड़कर कोई भी अन्य चला नहीं सकता? राहुल गांधी की हैसीयत क्या है? उसे राजनीती का क्या अनुभव है? केवल गांधी घरानेसे जुड़े होना ये उनके प्रधान मंत्री होनेके लिए जरूरी नहीं है, जबतक कांग्रेस की व्यक्ति पूजा ख़त्म नहीं होती तबतक ऐसाही चलेगा, असल में कांग्रेस के स्वार्थी नेताओंको गांधी घरानेके किसी भी व्यक्ती के पीछे छिपकर अपने धंदे को चलाने में रुची है, देश गया भाड़ में !! अगर गंधे घराने से कोई नहीं मिला तो उनके खानसामे को भी वे कांग्रेस का अध्यक्ष चुन सकते है !!

    उत्तर देंहटाएं

अपने अमूल्य सुझावों से मेरा मार्गदर्शऩ व उत्साहवर्द्धऩ करें !