01 अप्रैल, 2012

वो आटा, वो गैस, वो बिजली, वो पानी


ये मनमोहन भी ले लो;
ये दिग्विजय भी ले लो;
भले छीन लो हमसे सोनिया गांधी!
मगर हमको लौटा दो, वो कीमतें पुरानी;
वो आटा, वो गैस, वो बिजली, वो पानी!
बड़ी मेहरबानी, बड़ी मेहरबानी!!