09 अप्रैल, 2015

आज कल के समाचार का हाल



आज कल के समाचार का हाल
दिन प्रतिदिन हो रहा बेहाल
टीवी एंकर को भी कहते पत्रकार
जो असल में है एक कलाकार
ख़बरों का करते ये बलात्कार
जनता सहती इनके अत्याचार
सही बताऊ तो नहीं रहा
चैनल और अख़बार
क्योकि कर रहे है ये सब
बहुत ही गन्दा व्यपार......!
-
एम के पाण्डेय निल्को

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

अपने अमूल्य सुझावों से मेरा मार्गदर्शऩ व उत्साहवर्द्धऩ करें !