23 मई, 2016

इस जहाँ से कब कोई बचकर गया जो भी आया खा के कुछ पत्थर गया