23 मई, 2016

इस जहाँ से कब कोई बचकर गया जो भी आया खा के कुछ पत्थर गया


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

अपने अमूल्य सुझावों से मेरा मार्गदर्शऩ व उत्साहवर्द्धऩ करें !