28 नवंबर, 2016

मुक्तक - चाँद की चादनी मे नहाती रही

चाँद की चादनी मे नहाती रही

सारी रात मुझे वो जगाती रही

प्यार से ज़रा छु लिया था होठो को उसके

और निल्को की धुन वो अब तक गाती रही

-

एम के पाण्डेय निल्को


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

अपने अमूल्य सुझावों से मेरा मार्गदर्शऩ व उत्साहवर्द्धऩ करें !