28 नवंबर, 2016

मुक्तक - नज़र निल्को की मैंने शीर्षक ही रख लिया

दिल मे कोई प्रेम रत्न धन रख लिया
उनके लिए लिख , उनका भी मन रख लिया
ऐसी नजरों से घूरते है वो मुझको
की नज़र निल्को की' मैंने शीर्षक ही रख लिया
-

एम के पाण्डेय निल्को

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

अपने अमूल्य सुझावों से मेरा मार्गदर्शऩ व उत्साहवर्द्धऩ करें !